×
userImage
Hello
 Home
 Dashboard
 Upload News
 My News

 News Terms & Condition
 News Copyright Policy
 Privacy Policy
 Cookies Policy
 Login
 Signup
 Home All Category
     Hot Issue      Opposition      Election      Leadership      Government      Courts & law      Post Anything

बसवराज बोम्मई बने कर्नाटक के नए...

PALLAVI...
Posted : Wed/Jul 28, 2021, 11:43 AM - IST

Date:- 27 jule 2021: कर्नाटक / बसवराज बोम्मई कर्नाटक के अगले मुख्यमंत्री बने। उनकी गिनती शक्तिशाली लिंगायत नेता और येदियुरप्पा के करीबी विश्वासपात्रों में होती है। बीएस येदिरप्‍पा के इस्‍तीफे के बाद उनका चयन मुख्‍यमंत्री पद के लिए किया गया। येदियुरप्पा ने ही बसवराज के नाम का प्रस्‍ताव किया और...

More..

Latest News

More...
By  PALLAVI...
posted : Wed/Jul 28, 2021, 09:43 AM - IST

राष्ट्रपति रामनाथ... / Date:- 26 July 2021: दिल्ली / 60 दिनों तक चले इस युद्ध में शहीद हुए भारत के सैनिकों को ‘करगिल विजय दिवस’ में याद किया जाता है। युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सैन्य टुकड़ियों को इस इलाके से हटा दिया था और अपना नियंत्रण स्थापित कर लिया था। राष्ट्रपति कोविंद का आज कारगिल के द्रास जाकर शहीदों को नमन करने का कार्यक्रम था लेकिन अब इसमें खराब मौसम की वजह से बदलाव किया गया। राष्ट्रपति कोविंद ने बारामूला में युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। कारगिल विजय दिवस पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने देश की रक्षा में अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए जम्मू और कश्मीर के बारामूला के डैगर युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की।  कारगिल विजय दिवस से एक दिन पहले रविवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत ने कारगिल जिले के द्रास सेक्टर में नियंत्रण रेखा से सटे क्षेत्रों का दौरा किया। सेना ने ट्वीट कर बताया कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने द्रास सेक्टर में नियंत्रण रेखा से सटे क्षेत्र का दौरा किया और वर्तमान सुरक्षा स्थिति और तैयारी की समीक्षा की। इस दौरान सीडीएस ने सैनिकों के साथ बातचीत की और उनके ऊंचे मनोबल के लिए उन्हें बधाई दी। कारगिल विजय दिवस का आयोजन हर साल 26 जुलाई को किया जाता है। ये वही दिन है, जब भारतीय सेना ने कारगिल में अपनी सभी चौकियों को वापस पा लिया था, जिनपर पाकिस्तान की सेना ने कब्जा किया था। ये लड़ाई जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में साल 1999 में मई से जुलाई के बीच हुई थी। पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जानकारी दिए बिना तत्कालीन पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ ने कारगिल में घुसपैठ करवाई थी।



 13
 0

Read More

By  PALLAVI...
posted : Fri/Jul 23, 2021, 07:06 AM - IST

मानसून सत्र के लिए... / दिल्ली / मॉनसून सत्र की कार्यवाही का आज चौथा दिन है। संचार मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़ने वाले संचार मंत्री शांतनु सेन को राज्यसभा से सस्पेंड कर दिया है। गुरुवार को आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव इजराइली पेगासस के जरिए भारतीयों की कथित जासूसी के मुद्दे पर सदन में बयान दे रहे थे। उसी दौरान, तृणमूल कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दल के सदस्य हंगामा करते हुए आसन के समीप आ गए और नारेबाजी करने लगे। इसी बीच, तृणमूल कांग्रेस के सदस्य शांतनु सेन ने केंद्रीय मंत्री के हाथों से बयान की प्रति छीन ली और उसके टुकड़े कर हवा में लहरा दिया। राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू ने राज्‍यसभा टीएससी सांसद के निलंबन के प्रस्‍ताव पारित होने पर घोषणा करते हुए कहा, ''सांसद शांतनु सेन को इस सत्र के लिए निलंबित किया जाता है।शांतनु सेन ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने राज्यसभा में उन्हें अपशब्द कहे और वह मारपीट करने वाले थे, लेकिन सहयोगियों ने उनको बचा लिया। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने संसद में विपक्ष के आचरण की निंदा की है।  



 28
 0

Read More

By  PALLAVI...
posted : Fri/Jul 23, 2021, 07:01 AM - IST

सिद्धू ने संभाली... / चंडीगढ़ / सिद्धू ने शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस की कमान संभाल ली। प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनने के बाद सिद्धू ने अपने स्टाइल में जोरदार भाषण दिया है। सिद्धू ने अपने भाषण में विरोधियों को ललकारते हुए उनके बिस्तर गोल कर देने की बात कही। सिद्धू ने कहा कि लोग पिछले कई दिन से यह सवाल पूछ रहे थे सिद्धू प्रधान बनेगा कि नहीं बनेगा। लोग कई तरह की बातें कर रहे थे कि सिद्धू प्रधान बन गया, उसकी टीआरपी बढ़ गई। सिद्धू ने कहा कि पंजाब का हर किसान प्रधान है। हमें दिल्ली में बैठे किसानों की चिंता है। उन्होंने कहा कि सभी विरोधियों का बिस्तर गोल कर दूंगा। कार्यकर्ताओं की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं का विश्वास भगवान की आवाज है। कांग्रेस में कार्यकर्ता ही प्रधान है। पिछले करीब चार महीनों में पहली बार सिद्धू और सिंह एक-दूसरे से मिले। पिछले कुछ समय से सिद्धू और अमरिंदर का टकराव चलता रहा है। अमृतसर (पूर्व) के विधायक सिद्धू ने पवित्र ग्रंथ की बेअदबी के मामले के लिए मुख्यमंत्री पर निशाना साधा था। मुख्यमंत्री ने सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने का भी विरोध किया था और कहा था कि जब तक सिद्धू उनके खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए माफी नहीं मांगेंगे वह उनसे नहीं मिलेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को सिद्धू को पार्टी की पंजाब इकाई का नया अध्यक्ष नियुक्त किया था।    



 27
 0

Read More

By  PALLAVI...
posted : Wed/Jul 21, 2021, 03:35 AM - IST

New Delhi / 21 जुलाई से... / नई दिल्ली / बुधवार से 15 अगस्त तक लालकिला के दरवाजे पर्यटकों के लिए बंद कर दिए गए हैं।15 अगस्त को आयोजित होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह के चलते लालकिला पर्यटकों के लिए बंद किया गया है। इस बात की जानकारी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) विभाग के द्वारा जारी किए गए एक आदेश के द्वारा दी गई है।  लालकिला में स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। सुरक्षा एजेंसियों ने मोर्चा संभाल लिया है। कोरोना काल में पिछले वर्ष जिस प्रकार से समारोह का आयोजन हुआ था। कुछ ऐसी ही तैयारियां समारोह की  इस बार है। अधिकारियों ने बताया कि आम तौर पर स्वतंत्रता दिवस से एक सप्ताह पहले लाल किले को बंद किया जाता है। दिल्ली पुलिस ने 12 जुलाई को एक पत्र में सुझाव दिया था कि कोविड महामारी और सुरक्षा कारणों को देखते हुए 15 जुलाई से लालकिले को बंद कर दिया जाए। 15 जुलाई से पर्यटकों के लिए लालकिला बंद करने को लेकर निर्देश दिए थे। जिसमें स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों और सुरक्षा कारणों का हवाला दिया गया था। पुलिस के द्वारा मिले निर्देशों को देखते हुए हमने 21 जुलाई से लेकर 15 अगस्त तक लालकिला को बंद रखने का आदेश जारी किया है।  



 35
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Tue/Jul 20, 2021, 10:29 AM - IST

Pandharpur / पंढरपुर में विठ्ठल... / आषाढ़ी एकादशी के अवसर पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव बालासाहेब ठाकरे और उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे ने श्री विट्ठल-रुक्मिणी की आधिकारिक महा पूजा की। कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए इस बार  आषाढ़ी एकादशी की वारी रद्द कर दी गयी। ओर पंढरपुर में आनेवाले वारकरी सम्प्रदाय से अपील की गयी की वह कोरोना के चलते अपनी वारी हर में करे महाराष्ट्र के आराध्य दैवत विठ्ठल-रुक्मिणी  के अवसर पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव बालासाहेब ठाकरे और उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे ने श्री विट्ठल-रुक्मिणी की आधिकारिक महा पूजा की।   इस अवसर पर मानव वारकरी केशव कोलटे और उनकी पत्नी इंदुबाई कोलटे, पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे, सोलापुर के संरक्षक मंत्री दत्तात्रेय भर्ने और उनकी पत्नी सारिका भर्ने उपस्थित थे।



 33
 0

Read More

By  PALLAVI...
posted : Mon/Jul 19, 2021, 04:12 AM - IST

New Delhi / जेल में बंद आजम खान... / दिल्ली / यूपी के सीतापुर जेल में बंद सपा के वरिष्ठ नेता और सांसद आजम खान की तबीयत एक बार फिर बिगड़ गई है।  इलाज के लिए उन्हें लखनऊ भेजा जा रहा है। भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच इलाज के लिए उन्हें लखनऊ ले जाया जाएगा। सोमवार को जेल में बंद आजम खां का ऑक्सीजन लेवल 90 पर पहुंचने से हड़कंप मच गया। डॉक्टरों की टीम बुलाकर जांच कराई गई। इसके बाद हालत नाजुक देखते हुए एंबुलेंस से उन्हें लखनऊ मेदांता के लिए भेजा जा रहा है। आजम खान धोखाधड़ी मामले में सीतापुर जेल में बंद हैं। सपा सांसद पर 80 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। हालांकि ज्यादातर मामलों में उन्हें जमानत मिल चुकी है। उनके बेटे अब्दुल्ला आजम पर भी 40 से ज्यादा केस दर्ज हैं। 



 23
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Wed/Jul 14, 2021, 11:41 AM - IST

Wardha / MPSC की परीक्षा की... / वर्धा / आज वर्धा के स्पर्धा भरती कृती समिति की और से वर्धा जिलाधिकारी कार्यालय के पास आंदोलन किया गया जिसका नेतृत्व नितेश कराळे , निहाल पांडे आदि ने किया। राज्य लोक सेवा आयोग की सभी रुकी हुई परीक्षाओं, रुकी हुई नियुक्तियों, मेगाभारती, पुलिस भर्ती एवं सरलसेवा भर्ती के संबंध में यह आंदोलन किया गया विद्यार्थीओ की हो रहे आत्महत्या को सरकार नजर अंदाज कर रही है असा दिख रहा है।   कोविड-19 के प्रसार, मराठा आरक्षण और अन्य तकनीकी कारणों से राज्य में भर्ती, परीक्षाएं और नियुक्तियां रुकी हुई हैं। इस कारन राज्य में लगभग 1.5 मिलियन छात्रों का जीवन दांव पर लगा है। जहां कोरोना परिवार की आर्थिक स्थिति पहले से ही खराब कर रहा है, वहीं प्रतियोगी परीक्षाओं में पढ़ने वाले गरीब और सामान्य परिवारों के छात्रों को पिछले 2-3 वर्षों से परीक्षाओं के स्थगित होने, नियुक्तियों के स्थगित होने और भर्ती न होने के कारण शारीरिक और मानसिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। यह पूरी राज्य सरकार की लापरवाही की  नीतियों के कारण है। 3 साल से पुलिस भर्ती नहीं। छात्रों की उम्र बढ़ रही है। पिछली सरकार ने मेगाभारती को महापरीक्षा पोर्टल के माध्यम से लिया था। इसमें कई घोटाले थे। इसलिए हमारी सरकार ने पोर्टल बंद कर दिया। इसी तरह, हमारी सरकार में स्वास्थ्य भर्ती में कई घोटाले उजागर हुए। गरीब छात्र मेहनत कर सरकारी नौकरी के सपने देख रहे हैं लेकिन सरकार की उदासीनता के कारण ये छात्र पिछड़ रहे हैं और जिनके पास पैसा है वे 10 से 20 लाख रुपये देकर नौकरी कर रहे हैं. यह भयावह है कि छात्र युवा परेशान हो रहा है। महाराष्ट्र सरकारने जल्द ही कोई निर्णय लेना चाहिए।     राज्य सरकार के सामने निम्नलिखित मांगे रखी गयी।   1) एमपीएससी 2021 का शेड्यूल जल्द से जल्द घोषित किया जाए। 2) यूपीएससी की जगह रेगुलर एमपीएससी लिया जाए। ३) २०२० एमपीएससी कंबाइन ग्रुप बी की तिथि १० दिनों में घोषित की जानी चाहिए। ४) एमपीएससी राज्य लोक सेवा आयोग के सदस्यों की संख्या ६ होनी चाहिए लेकिन पिछले ३ वर्षों से केवल दो सदस्य ही एमपीएससी का काम संभाल रहे हैं। पूर्ण सदस्यता अगले १० दिनों के भीतर भरी जानी चाहिए। ५) एमपीएससी और महाआईटी की सभी लंबित परीक्षाएं जल्द से जल्द ली जाएं और अंतिम परिणाम दिए जाएं। 6) सिविल इंजीनियरिंग सेवाओं (3600) और पीएसआई (4500) का परीक्षण और साक्षात्कार जल्द से जल्द आयोजित किया जाना चाहिए। ७) फंसे हुए ४१३ अधिकारियों की जल्द से जल्द नियुक्ति की जाए। ८) राज्य सरकार की कक्षा ३ और कक्षा ४ की सभी परीक्षाएं बिना निजी कंपनी से लिए एमपीएससी के माध्यम से आयोजित की जानी चाहिए, और उन्हें अनुबंध के आधार पर रद्द करके पूर्णकालिक नौकरी दी जानी चाहिए। 9) पिछले 3 वर्षों से कोई पुलिस भर्ती नहीं। अगले 10 दिनों में महापरीक्षा पोर्टल पर भरी गई 5,000 भर्तियों के लिए और अब महाविकास अघाड़ी द्वारा घोषित 12,538 रिक्तियों के लिए एक अधिसूचना जारी की जानी चाहिए। अधिसूचना जारी की जाए। 10) सीधी सेवा और मेगा भर्ती के लिए अधिसूचना अगले 10 दिनों में जारी की जानी चाहिए। 11) कोरोना के प्रकोप के कारण छात्र के दो साल फ्री हो गए, इसलिए कुछ छात्रों की आयु सीमा समाप्त हो सकती है, इसलिए आयु सीमा में 2 वर्ष की वृद्धि की जानी चाहिए और जल्द ही एक सरकारी आदेश जारी किया जाना चाहिए। 12) 16 विभिन्न परीक्षाओं के लिए आवेदन महापरीक्षा पोर्टल पर भरे गए थे, लेकिन अभी तक उन्हें नहीं लिया गया है। ये परीक्षाएं जल्द से जल्द एमपीएससी के माध्यम से कराई जाएं। 13) सरकारी कंपनी 'MahaIT' पर SIT लगाई जाए और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। 14) पुलिस भर्ती के फिजिकल टेस्ट को लेकर छात्रों में फैली भ्रांति को दूर करने के लिए जल्द से जल्द 1600 मीटर या 5 किलोमीटर के बारे में नोटिफिकेशन और पहले फिजिकल टेस्ट की घोषणा की जाए। 15) एमपीएससी की इंजीनियरिंग परीक्षा उत्तीर्ण शहीद स्वप्निल लोनाकर को महाराष्ट्र सरकार 1 करोड़ रुपये की सहायता प्रदान करे। 16) महाराष्ट्र में 2019 तक 2 लाख पद खाली हैं। मेगा भर्ती को जल्द से जल्द एमपीएससी के माध्यम से निकाला और भरा जाना चाहिए। 17) पूरे महाराष्ट्र से प्रतियोगी परीक्षा कक्षाओं और चिकित्सकों को पुणे जिले की साइट पर अनुमति दी जानी चाहिए। विद्यार्थीओ ने कहा की आंदोलन से अगर सरकार कोई निर्णय जल्द नहीं लेगी तो हमे आक्रमक होना पड़ेगा।  निहाल पांडे ने कहा की "सरकार जल्द से जल्द विद्यार्थीओ की समस्या का निवारण करे" 



 82
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Wed/Jul 14, 2021, 07:03 AM - IST

Wardha / साहूर प्राथमिक... / वर्धा / आज विधायक दादाराव केचे ने अपने स्थानीय विकास कोष के तहत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र साहूर तालुका आष्टी को सभी सुविधाओं के साथ एक अत्याधुनिक एम्बुलेंस समर्पित की। जिसे साहुर और बाकी गावों को इस एम्बुलेंस का उपयोग हो सके। सहूर को मिली इस एम्बुलेंस के लिए साहूर के डॉक्टर और लोगोने विधायक दादाराव केचे का धन्यवाद माना । एम्बुलेंस की चाबी देते समय सभी डॉक्टर और कमर्चारी समेत सभी बीजेपी के कार्यकर्ता उपस्थित थे।



 34
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Sun/Jul 11, 2021, 10:01 AM - IST

Lucknow / उत्तर प्रदेश ब्लाॅक... / लखनऊ/ उत्तर प्रदेश में ब्लॉक पंचायत प्रमुख के कुल 825 में से 476 पर मतदान हुआ। तीन बजे तक मतदान हुआ ओर इसके बाद मतगणना के शुरुआती नतीजाें के अनुसार, लखनऊ सहित 37 जिलों में 277 सीटों पर भाजपा समर्थित उम्मीदवार जीते हैं। सपा महज 43 सीटों पर जीत पाई है। 46 पर निर्दलीय विजयी रहे हैं। इससे पहले इटावा, देवबंद, जाैनपुर, प्रतापगढ़ सहित 15 से ज्यादा जिलों में जबरदस्त हिंसा हुई। इटावा में एसपी सिटी काे भाजपा नेता ने थप्पड़ मारा। यहां पुलिस और भाजपा समर्थकाें में झड़प हुई। वहीं ब्लाॅक पंचायत प्रमुख के लिए नामांकन प्रक्रिया के साथ ही हिंसा की घटनाएं शुरू हाे गई थीं। शुक्रवार को नाम वापसी के बाद 349 ब्लॉक प्रमुख को निर्विरोध चुने गए थे। इनमें 334 से ज्यादा भाजपा के प्रत्याशी हैं। राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार के अनुसार, गुरुवार तक कुल 1778 नामांकन हुए थे। जांच में 68 पर्चे खारिज कर दिए गए, जबकि 187 उम्मीदवारों ने अपना नामांकन वापस ले लिया था। वहीं चुनाव में जीत के लिए मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ ने पार्टी कार्यकर्ताओ काे बधाई दी है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हिंसा के लिए याेगी सरकार की आलाेचना की है। सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पुलिस और भाजपा समर्थकाें के बीच झड़प हुई। इटावा में पुलिस अधिकारियों के साथ धक्का-मुक्की की गई। एसपी सिटी को थप्पड़ मार दिया गया है। वहीं, लखनऊ, प्रतापगढ़, हमीरपुर, सिद्धार्थनगर, अमरोहा, रायबरेली, फिरोजाबाद, कानपुर, एटा, पीलीभीत, महोबा, बाराबंकी, चंदौली, जाैनपुर सहित 15 जिलों में गोलीबारी, पथराव, उपद्रव और मारपीट हुई है। जाैनपुर में पूर्व बाहुबली सांसद धनंजय सिंह के समर्थकाें का परचम लहराया  लखनऊ सीजेएम कोर्ट से भगोड़ा घोषित पूर्व बाहुबली सांसद धनंजय सिंह का जाैनपुर जिले के ब्लॉक पंचायत प्रमुख चुनाव में दबदबा दिखा। बक्शा और मुंगरा बादशाहपुर ब्लाॅक में धनंजय समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार जीते। प्रतापगढ़ के आसपुर देवसरा ब्लाॅक में सपा नेताओं और पुलिस में झड़प। पुलिस पर पथराव। पुलिस ने हवाई फायरिंग की। सीतापुर के पहला ब्लॉक पर भाजपा प्रत्याशी के समर्थकों की गाड़ी से असलहा, लाठी-डंडे, ज्वलनशील पदार्थ बरामद हुआ एक युवक गिरफ्तार। अमरोहा के जोया ब्लॉक में सपा और भाजपा कार्यकर्ताओ में भिड़ंत। पुलिस ने लाठीचार्ज किया।  लखनऊ के सरोजनी नगर ब्लॉक के बाहर सपा कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया।



 51
 0

Read More

papular story

More...
By  Public Reporter
posted : Thu/Jan 01, 1970, 05:30 AM - IST

Bhopal / पाकिस्तान ने... / संयुक्त राष्ट्र, पाकिस्तान ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की दावेदारी का विरोध किया है। भारत विरोधी बयानबाजी का कोई मौका नहीं छोड़ने वाले पाकिस्तान ने भारत की सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता की दावेदारी को लेकर अपनी असुरक्षा की भावना व्यक्त की है। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने एक बयान में कहा, “ प्रधानमंत्री मोदी जटिल अंतरराष्ट्रीय मुद्दों को लेकर चुपचाप और वास्तविकता से परे हैं।” प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र को संबोधित करते हुए सुरक्षा परिषद में भारत को निर्णायक भूमिका दिए जाने की वकालत करते हुए इसमें सुधार की मांग की थी। श्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र को वीडियो का कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुये वैश्विक शांति में भारत की भूमिका को रेखांकित किया और सवाल किया कि संयुक्त राष्ट्र के संस्थापक देशों में से एक होने के बावजूद वैश्विक संस्था की निर्णय प्रक्रिया से उसे कब तक अलग रखा जायेगा। उन्होंने कहा , “संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रियाओं में बदलाव, व्यवस्थाओं में बदलाव, स्वरूप में बदलाव आज समय की मांग है। भारत में संयुक्त राष्ट्र का जो सम्मान है वह बहुत कम देशों में है। यह भी सच्चाई है कि भारत के लोग संयुक्त राष्ट्र की सुधार प्रक्रियाओं के पूरा होने का लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। आखिर कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र की निर्णय प्रक्रिया से अलग रखा जायेगा।” अगले साल जनवरी से सुरक्षा परिषद् के अस्थायी सदस्य के रूप में भारत की प्राथमिकताओं को रेखांकित करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जनकल्याण से जगकल्याण का है। भारत की आवाज़ हमेशा शांति, सुरक्षा और समृद्धि के लिए उठेगी। भारत की आवाज़ मानवता, मानव जाति और मानवीय मूल्यों के दुश्मन-आतंकवाद, अवैध हथियारों की तस्करी, ड्रग्स, मनी लाउंडरिंग के खिलाफ उठेगी। भारत समेत ब्राजील, जर्मनी और जापान जैसे देश कई वर्षों से सुरक्षा परिषद में सुधार और इसके विस्तार की वकालत करते आ रहे हैं। भारत को इसी वर्ष आयरलैंड, मैक्सिको और नार्वे के साथ सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के रूप में दो वर्ष के कार्यकाल के लिए चुना गया है। भारत का कार्यकाल एक जनवरी 2021 से शुरू होगा।



 442
 0

Read More

By  Maahi Newser
posted : Thu/Jan 01, 1970, 05:30 AM - IST

Patna / बिहार चुनाव 2020:... / विधानसभा चुनाव को लेकर बिहार में तैयारियां जारी है। हर मामले में  नितीश कुमार सबसे आगे दिखाई दे रहें हैं। इस बार नीतीश ने मीडिया के सामने चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद अपनी बातों को बराबर से जनता के सामने रख रहे हैं। जबकि उनका सहयोगी दल भाजपा (BJP) हो या विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (RJD), सभी तैयारी में पीछे दिखाई दे रहे हैं। जनता दल यूनाइटेड द्वारा बुधवार को एक साथ अपने 115 उम्मीदवारों की सूची जारी की गई. जिसके बाद संवाददाता सम्मेलन में पार्टी की बिहार इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने दावा किया कि इस सूची में सभी जातियों, सभी पक्षों और विशेषकर महिलाओं को ध्यान में रखा गया है. पार्टी के नेताओं के अनुसार इस बार 115 उम्मीदवारों में सर्वाधिक टिकट महिलाओं को दिए गए है। 22 महिलाओं को इस चुनाव में उम्मीदवार बनाया है। जातियों को प्रतिनिधित्व देने के मामले में जनता दल यूनाइटेड के टिकट पर अनुसूचित जाति यानी की दलित वर्ग से 17 उम्मीदवार होंगे। वहीं जनजाति यानी कि आदिवासी वर्ग से एक उम्मीदवार होगा। साथ ही  पार्टी का मुख्य आधारभूत वोट है (गैर यादव पिछड़ा) उसमें कुशवाहा जाति के 15 उम्मीदवार हैं। वहीं कुर्मी जाति के बारह, धानुक जाति से आठ उम्मीदवार हैं। साथ ही 19 अति पिछड़ा समुदाय से उम्मीदवार बनाए गए हैं। वैश्य जाति के तीन उम्मीदवार हैं। इस बार पिछड़े वर्ग में भी सर्वाधिक यादव जाति के 18 उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है। अगड़ी जातियों में राजपूत जाति के सात उम्मीदवारों को टिकिट गया है और दो ब्राह्मण जाति भी हैं। भूमिहार जाति से दस लोगों को और मुस्लिम वर्ग के 11 लोगों को भी टिकट दिया गया है। इस तरह से बिहार में चुनाव की तैयारियां ज़ोरों पर चल रही है। विधानसभा चुनाव को लेकर बिहार में तैयारियां जारी है। हर मामले में  नितीश कुमार सबसे आगे दिखाई दे रहें हैं। इस बार नीतीश ने मीडिया के सामने चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद अपनी बातों को बराबर से जनता के सामने रख रहे हैं। जबकि उनका सहयोगी दल भाजपा (BJP) हो या विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (RJD), सभी तैयारी में पीछे दिखाई दे रहे हैं। जनता दल यूनाइटेड द्वारा बुधवार को एक साथ अपने 115 उम्मीदवारों की सूची जारी की गई. जिसके बाद संवाददाता सम्मेलन में पार्टी की बिहार इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने दावा किया कि इस सूची में सभी जातियों, सभी पक्षों और विशेषकर महिलाओं को ध्यान में रखा गया है. पार्टी के नेताओं के अनुसार इस बार 115 उम्मीदवारों में सर्वाधिक टिकट महिलाओं को दिए गए है। 22 महिलाओं को इस चुनाव में उम्मीदवार बनाया है। जातियों को प्रतिनिधित्व देने के मामले में जनता दल यूनाइटेड के टिकट पर अनुसूचित जाति यानी की दलित वर्ग से 17 उम्मीदवार होंगे। वहीं जनजाति यानी कि आदिवासी वर्ग से एक उम्मीदवार होगा। साथ ही  पार्टी का मुख्य आधारभूत वोट है (गैर यादव पिछड़ा) उसमें कुशवाहा जाति के 15 उम्मीदवार हैं। वहीं कुर्मी जाति के बारह, धानुक जाति से आठ उम्मीदवार हैं। साथ ही 19 अति पिछड़ा समुदाय से उम्मीदवार बनाए गए हैं। वैश्य जाति के तीन उम्मीदवार हैं। इस बार पिछड़े वर्ग में भी सर्वाधिक यादव जाति के 18 उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है। अगड़ी जातियों में राजपूत जाति के सात उम्मीदवारों को टिकिट गया है और दो ब्राह्मण जाति भी हैं। भूमिहार जाति से दस लोगों को और मुस्लिम वर्ग के 11 लोगों को भी टिकट दिया गया है। इस तरह से बिहार में चुनाव की तैयारियां ज़ोरों पर चल रही है।



 644
 0

Read More

By  Newssyn Team
posted : Tue/Oct 27, 2020, 03:25 AM - IST

Patna / बिहार चुनाव: बिहार... / बिहार चुनाव को लेकर बिहार में चुनावी नीति बहुत ही ज़ोर शोर से चल रही है। वहीं बिहार में प्रथम चरण के मतदान का चुनाव प्रचार थम गया है। 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों पर जो चुनाव होने हैं उसमें 1066 प्रत्याशियों के लिए आने वाला समय अनुकूल नहीं होने की संभावना है अर्थात चुनौती भरा हो सकता है। इन प्रत्याशियों में 114 महिला हैं, जबकि 952 पुरुष हैं। चुनाव के लिए प्रत्याशी डोर टू डोर कैंपेनिंग के लिए निकल पड़े हैं। निर्वाचन आयोग की टीम ने पूरी तरह से इन गतिविधियों को नियंत्रण में रखा है। रुपयों और शराब जैसी असंवैधानिक गतिविधियों और शिकायत पर टीम की पूरी नज़र है। चुनाव आयोग ने बहुत से एजेंसियों को इस कार्य में लगा रखा है। रोहतास, अरवल, औरंगाबाद, गया, नवादा, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, पटना, भोजपुर, बक्सर, कैमूर (भभुआ), जहानाबाद, भागलपुर, जमुई जनपद में चुनाव होना है।



 429
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Sun/Nov 01, 2020, 12:04 PM - IST

Bareilly / उत्तर प्रदेश में लव... / उत्तर प्रदेश, बरेली जिले के किला थाना क्षेत्र में हिंदू कार्यकर्ताओं द्वारा अलग-अलग धर्म के लड़के-लड़की की शादी को लेकर जबरदस्त विरोध किए जाने के चार दिन बाद पुलिस ने जोड़े को राजस्थान से हिरासत में ले लिया है। उन्हें शनिवार को वापस उत्तर प्रदेश में लाया गया है। लड़के पर डकैती के साथ-साथ जालसाजी का आरोप लगाया गया है, उस पर फर्जी आधार कार्ड के जरिए पहचान छिपाने का आरोप हैं। उसे एक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया और न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। लड़की को मेडिकल जांच के लिए और बाद में आश्रय गृह भेज दिया गया। लड़की ने कहा कि वह नाबालिग नहीं है और अपने पार्टनर के साथ रहना चाहती थी, जो अल्पसंख्यक समुदाय से है। उसने पहचान-पत्र भी दिखाया, जिसमें उसकी उम्र 19 साल है। पुलिस ने कहा कि लड़की अपने घर से 5 लाख रुपए नकद लेकर लड़के के साथ भाग गई थी, जिसमें से 3 लाख रुपए राजस्थान में जिस होटल में दोनों ठहरे थे, वहां से बरामद किया गया। बरेली के एसएसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा कि वे वास्तविक उम्र निर्धारित करने के लिए लड़की के मैट्रिक्युलेशन सर्टिफिकेट का सत्यापन करेंगे। उन्होंने कहा, "उसका बयान मंगलवार को एक मजिस्ट्रेट द्वारा दर्ज किया जाएगा जो उसकी कस्टडी पर फैसला लेगा।' विहिप और कुछ अन्य संगठनों के सदस्यों ने 20 अक्टूबर को किला पुलिस स्टेशन पर हंगामा किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि यह 'लव जिहाद' का मामला है।  200 से अधिक लोगों के खिलाफ पुलिस स्टेशन के अंदर हंगामा काटने के लिए मामला दर्ज किया गया। लड़के के परजिनों ने कहा कि दोनों आपसी रिश्ते में थे। लड़के के एक अंकल ने कहा, "जब दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं तो यह लव जिहाद का मामला कैसे हो गया? दोनों परिवार उनके रिश्ते के खिलाफ थे और उन्हें अलग करने की कई बार कोशिश की।' विहिप नेता इस बात पर अड़े थे कि महिलाओं को ऐसे "लव जिहाद' के मामलों से "सुरक्षित' रहने की जरूरत है। विहिप के बरेली इकाई के जिला अध्यक्ष पवन कुमार अरोड़ा ने कहा कि लड़की उस लड़के के जाल में फंस गई, जिसने उसे उसके ही धर्म का होने का ढोंग किया। उन्होंने कहा कि विहिप "लव जिहाद' के मामलों के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी। एक संबंधित घटना में शनिवार को शाहजहांपुर में एक सिख लड़की के दूसरे समुदाय के एक युवक के साथ भागने के बाद  विहिप के सदस्यों ने सिख समुदाय के लोगों के साथ, एक अन्य पुलिस थाने का घेराव किया।   इससे पहले, विहिप ने पुलिस को लड़की को ढूंढ़ने के लिए 24 घंटे का "अल्टीमेटम' दिया था, जिसमें उसने दावा किया था कि वह नाबालिग थी। पुलिस ने कहा कि लड़की के नाबालिग होने के दावे के समर्थन में परिवार ने कोई दस्तावेज नहीं दिया है। शाहजहांपुर के एसएसपी एस. आनंद ने कहा कि दोनों का पता लगाने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है। एक दोस्त, जिसने जोड़े को भागने में मदद की, को अपहरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया, जबकि लड़के के परिवार के एक सदस्य को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया। सिख पंजाबी महासभा के जिला अध्यक्ष वी.पी. सिंह ने कहा कि अगर लड़की पांच दिनों के अंदर नहीं मिली तो वे राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू करेंगे। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि लड़का और लड़की पिछले चार वर्षों से एक-दूसरे को जानते थे।



 434
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Tue/Nov 10, 2020, 01:11 AM - IST

Patna / बिहार विधानसभा... / पटना, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) बृंदा करात ने बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर कहा कि वैकल्पिक राजनीति वाली सरकार ही भविष्य की सरकार होगी। इस वार के चुनाव के जरिए एक वैकल्पिक नीतियों के लिए संघर्ष का रास्ता प्रशस्त होने जा रहा है। जमाल रोड स्थित पार्टी के राज्य कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि बिहार में राजग गठबंधन की विदाई तय है। उन्होंने एनडीए को ‘राष्ट्रीय विनाश गठबंधन’ की संज्ञा दी और कहा कि पूरी दुनिया ने पिछले  महीने में केंद्र एवं राज्य सरकार की चौतरफा विफलता एवं दमन को देखा है।  बिहार पर इसका खास असर पड़ा है।  बिहार के लाखों मजदूर भूख प्यास सहते अपनी जिंदगी गंवाते हजारों किलोमीटर की दूरी तय करते हुए वापस लौट रहे थे।  बिहार सरकार पहले तो उन मजदूरों को रोकने की कोशिश में लगी रही और बाद में उन्हें बिहार में ही रोजगार देने की घोषणा की गई।  उन्हें जब काम नहीं मिला तो फिर से वे दूसरे राज्यो में लौट गए। उन्होंने बताया कि बिहार का चुनाव रोजगार, रोजी, शिक्षा,,स्वास्थ्य,जैसे मुद्दों पर लड़ा जा रहा है और महागठबंधन के घोषणा पत्र में वो तमाम बातें है, जिसके लिए सीपीएम और वामपंथी दल लड़ते रहे हैं।  इस बार तमाम वामपंथी दलों एवं महागठबंधन के बड़े दल एक साथ मिलकर चुनाव में एक दूसरे की मदद कर रहे हैं।  महागठबंधन व वामपंथी दलों को भारी बहुमत मिलेगा और बिहार पूरे देश को बदलाव का संदेश देने वाला होगा।



 370
 0

Read More

By  Tej Yadav
posted : Fri/Nov 20, 2020, 09:39 AM - IST

New Delhi / बेरोजगारी और महंगाई... / नई दिल्ली, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को एक ट्वीट कर बढ़ती बेरोजगारी और महंगाई को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला। राहुल ने सोशल मीडिया पर कहा, ‘बैंक मुसीबत में हैं और जीडीपी भी। महंगाई इतनी ज्यादा कभी नहीं थी, न ही बेरोजगारी। जनता का मनोबल टूट रहा है और सामाजिक न्याय प्रतिदिन कुचला जा रहा है।' कांग्रेस नेता ने सवाल किया कि ‘यह विकास है या विनाश?' बता दें कि कोरोना महामारी के कारण देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। रिजर्व बैंक के अनुमानों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में आर्थिक विकास दर नकारात्मक रही है। जीडीपी दर दूसरी तिमाही में -8.6% सिकुड़ गई है। इसे लेकर भी राहुल ने केंद्र सरकार पर हमला किया था। उन्होंने कहा था, भारत इतिहास में पहली बार आर्थिक मंदी की चपेट में आ गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की ताकत को कमजोरी में बदल दिया है।



 377
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Fri/Nov 20, 2020, 10:10 AM - IST

नेपाल में चीन की... / काठमांडू, नेपाल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी में संकट के साथ ही चीन के दखल का स्तर बढ़ा है। नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली तथा पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष व पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल के बीच टकराव के बीच पार्टी की केंद्रीय सचिवालय की बुधवार को महत्वपूर्ण बैठक हुई, जिसमें ओली और प्रचंड सहित पार्टी के बड़े नेता शामिल हुए। इससे पहले प्रधानमंत्री ओली ने केंद्रीय सचिवालय की बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया था। हालांकि नेपाल में चीन की राजदूत होउ यानची के साथ मंगलवार रात को मुलाकात के बाद ओली ने केंद्रीय सचिवालय की बैठक में भाग लेने पर सहमत हुए। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार यानची और ओली के बीच करीब ढाई घंटे बातचीत हुई। ओली से इस मुलाकात से पहले यानची ने राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी, प्रचंड, माधव कुमार नेपाल, स्पीकर अग्नि प्रसाद सपटकल और अन्य के साथ बातचीत की। इससे पहले 31 अक्टूबर को ओली और प्रचंड के साथ केंद्रीय सचिवालय की बैठक हुई थी। नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में केंद्रीय सचिवालय निर्णय लेने वाली समिति है, इसमें कुछ प्रमुख नेताओं सहित कुल 45 सदस्य हैं। ओली की नेतृत्व क्षमता को लेकर पार्टी में गंभीर विवाद है। एक अन्य पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड और वरिष्ठ नेता माधव कुमार नेपाल, झाला नाथ खनाल और बामदेब गौतम ने मांग की है कि ओली प्रधानमंत्री या पार्टी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दें। ओली इस्तीफा देने को तैयार नहीं हैं।



 637
 0

Read More

By  Maahi Newser
posted : Thu/Dec 24, 2020, 10:49 AM - IST

Panaji / 2022 में गोवा... / गोवा, पणजी, वर्ष 2022 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) ने भाजपा के साथ गठबंधन करने की संभावना से इनकार कर किया है। पार्टी के अध्यक्ष दीपक धवलीकर ने बुधवार को कहा कि हमारी पार्टी ने समान विचार वाले विपक्षी दलों के साथ चुनावपूर्व गठबंधन के लिए अपने दरवाजे खुले रखे हैं। साथ ही धवलीकर ने ये भी कहा कि एमजीपी ने ‘एकला चलो रे’ की नीति अपनाने का फैसला किया है, लेकिन अगर समय आता है, तो हम अन्य समान विचारधारा वाले दलों के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन भी कर सकते हैं। आगे कहा कि अगर सभी विपक्षी दल एक साथ आ जाएं तो भाजपा की जमानत जब्त हो जाएगी। बहरहाल एमजीपी पूरी ताकत के  साथ चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी में है। 2017 के विधानसभा चुनाव में एमजीपी ने 03 सीटों पर जीत हासिल की थी। जीत के बाद 02 विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे।



 356
 1

Read More

By  Public Reporter
posted : Thu/Jan 01, 1970, 05:30 AM - IST

अटल बिहारी वाजपेयी... / भारतीय राजनीति की बात जब भी होगी तो अटल बिहारी वाजपेयी का नाम इवर्णीम चरित्रों में लिखा जाएगा। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक राजनीतिक शकीरीयत के साथ-साथ तार्किक प्रवृत्तियां, भारत के सफल संचारक, पत्रकार और कवि के रूप में भी जाने जाते हैं। अटल शीरी वाजपेयी का जयंम 25 दिसंबर 1924 को हुआ। आज पूरा भारत अटल बिहारी वाजेयी का 96 वां जयंती मना रहा है। इस अवसर पर भारत के राष्पतिपति रामनाथ कोविंद, यशस्वीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने  पूनप अपर्ति कर नमन किया। राजनीति को नई दिशा देते थे अटल जी भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष अटल जी भारतीय राजनीति के प्रेरणा पुंज जीवनभर बने रहेंगे। उनका राजनीतिक सफर सादगी भरा रहा। भारत के ऐसे महान नेता जिन्दी ने अपना पूरा जीवन भारत की सेवा में समर्पित कर दिया। राजनीति में आने के बाद भारतीय राजनीति में एक नई दिशा देने का काम किया गया। सादगी के प्रतिमूर्ति अटल जी ने पहली बार रात्रिवाद और राशीभक्ति जैसे शब्दों से पूरे देश को परिचित कराया। भारतीय जनसंघ की स्थापितपना में भी अटल जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यही पार्टी आज भारतीय जनता पार्टी के रूप में होनी चाहिए। सफल पत्रकार के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी वाजपेयी जी ने राजनीति के साथ-साथ लेखन में भी अपनी भागीदारी करते रहते थे। एक पत्रकार के रूप में भी अटल जी को आज याद किया जाता है। उनके संपादन में राधधर्म, पांचजन्य और वीर अर्जुन जैसे प्रतिष्ठित समाचारपत्रों का प्रकाशन हुआ है। अनुकूल संचारक के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी कुशल वक्‍ता, वाकपटुता कला में माहिर और अपने भाषणों से जनता का दिल जीतने वाले अटल बिहारी वाजपेयी को पूरा विश्‍व सफल संचारक के रूप में जानता है। उनके भाषणों की शौली से जनता के साथ-साथ संसद में भी शमा बंध जाता था। जब उनके भाषण की शुरूआत होती थी तो पूरे संसद में सन्‍नाटा छा जा जाता है और उनकी बातों को सभी सदस्‍य बहुत ही ध्‍यान पूर्वक सुनते थे। भारत के राष्ट्रपति कोविन्द ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर नई दिल्ली में उनके समाधि-स्थल – ‘सदैव अटल’ पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि  ‘पूर्व प्रधानमंत्री आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जन्म-जयंती पर शत-शत नमन। अपने दूरदर्शी नेतृत्व में उन्होंने देश को विकास की अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंचाया। एक सशक्त और समृद्ध भारत के निर्माण के लिए उनके प्रयासों को सदैव स्मरण किया जाएगा।'  केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने पूनप अर्पित कर कहा कि "अटल जी के विचार और देश की प्रगति के लिए उनकी छापें हमें सदैव राष्ट्रसेवा के लिए शक्ति देते रहें" "अटल जी की कर्मनिष्ठा और राष्ट्रसेवा हम सदैव प्रेरणा का केंद्र रहेंगे"        



 582
 0

Read More

By  s verma
posted : Fri/Dec 25, 2020, 11:00 AM - IST

Jabalpur / ABVP Members Attend... / Members of Jabalpur district unit of Akhil Bhartiya Vidyarthi Parishad enthusiastically attended the ABVP’s 66th National Conference being organised at Reshimbag, Nagpur through virtual mode on Friday. Through online mode, live telecast of the inaugural ceremony of the two-day National Conference was displayed at Rani Durgavati University. The conference will continue on Saturday also. During inaugural ceremony, Sar Karyavah, Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) Suresh Bhaiyaji Joshi addressed the ABVP students. Seeking details about Parishad’s activities from Chaganbhai Patel, National President, ABVP who presided over the conference and Nidhi Tripathi, National Secretary ABVP who was the special guest, Sar Karyavah, Bhaiyaji Joshi discussed about present scenario and future challenges. The virtual programme was attended by the invited More than 115 workers and office-bearers attended the conference. ABVP national conference was both the biggest and smallest even in it’s history as mere 200 workers were physically attended it in Nagpur but at the same time lakhs of workers attended the same at around 4000 places across the country wherever the programme was telecast through virtual mode. The programme was organised at every district unit throughout the country through virtual mode.



 506
 1

Read More


Hot Issue

More...
By  Public Reporter
posted : Thu/Jan 01, 1970, 05:30 AM - IST

Bhopal / पाकिस्तान ने... / संयुक्त राष्ट्र, पाकिस्तान ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की दावेदारी का विरोध किया है। भारत विरोधी बयानबाजी का कोई मौका नहीं छोड़ने वाले पाकिस्तान ने भारत की सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता की दावेदारी को लेकर अपनी असुरक्षा की भावना व्यक्त की है। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने एक बयान में कहा, “ प्रधानमंत्री मोदी जटिल अंतरराष्ट्रीय मुद्दों को लेकर चुपचाप और वास्तविकता से परे हैं।” प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र को संबोधित करते हुए सुरक्षा परिषद में भारत को निर्णायक भूमिका दिए जाने की वकालत करते हुए इसमें सुधार की मांग की थी। श्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र को वीडियो का कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुये वैश्विक शांति में भारत की भूमिका को रेखांकित किया और सवाल किया कि संयुक्त राष्ट्र के संस्थापक देशों में से एक होने के बावजूद वैश्विक संस्था की निर्णय प्रक्रिया से उसे कब तक अलग रखा जायेगा। उन्होंने कहा , “संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रियाओं में बदलाव, व्यवस्थाओं में बदलाव, स्वरूप में बदलाव आज समय की मांग है। भारत में संयुक्त राष्ट्र का जो सम्मान है वह बहुत कम देशों में है। यह भी सच्चाई है कि भारत के लोग संयुक्त राष्ट्र की सुधार प्रक्रियाओं के पूरा होने का लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। आखिर कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र की निर्णय प्रक्रिया से अलग रखा जायेगा।” अगले साल जनवरी से सुरक्षा परिषद् के अस्थायी सदस्य के रूप में भारत की प्राथमिकताओं को रेखांकित करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जनकल्याण से जगकल्याण का है। भारत की आवाज़ हमेशा शांति, सुरक्षा और समृद्धि के लिए उठेगी। भारत की आवाज़ मानवता, मानव जाति और मानवीय मूल्यों के दुश्मन-आतंकवाद, अवैध हथियारों की तस्करी, ड्रग्स, मनी लाउंडरिंग के खिलाफ उठेगी। भारत समेत ब्राजील, जर्मनी और जापान जैसे देश कई वर्षों से सुरक्षा परिषद में सुधार और इसके विस्तार की वकालत करते आ रहे हैं। भारत को इसी वर्ष आयरलैंड, मैक्सिको और नार्वे के साथ सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के रूप में दो वर्ष के कार्यकाल के लिए चुना गया है। भारत का कार्यकाल एक जनवरी 2021 से शुरू होगा।



 442
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Sun/Nov 01, 2020, 12:04 PM - IST

Bareilly / उत्तर प्रदेश में लव... / उत्तर प्रदेश, बरेली जिले के किला थाना क्षेत्र में हिंदू कार्यकर्ताओं द्वारा अलग-अलग धर्म के लड़के-लड़की की शादी को लेकर जबरदस्त विरोध किए जाने के चार दिन बाद पुलिस ने जोड़े को राजस्थान से हिरासत में ले लिया है। उन्हें शनिवार को वापस उत्तर प्रदेश में लाया गया है। लड़के पर डकैती के साथ-साथ जालसाजी का आरोप लगाया गया है, उस पर फर्जी आधार कार्ड के जरिए पहचान छिपाने का आरोप हैं। उसे एक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया और न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। लड़की को मेडिकल जांच के लिए और बाद में आश्रय गृह भेज दिया गया। लड़की ने कहा कि वह नाबालिग नहीं है और अपने पार्टनर के साथ रहना चाहती थी, जो अल्पसंख्यक समुदाय से है। उसने पहचान-पत्र भी दिखाया, जिसमें उसकी उम्र 19 साल है। पुलिस ने कहा कि लड़की अपने घर से 5 लाख रुपए नकद लेकर लड़के के साथ भाग गई थी, जिसमें से 3 लाख रुपए राजस्थान में जिस होटल में दोनों ठहरे थे, वहां से बरामद किया गया। बरेली के एसएसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा कि वे वास्तविक उम्र निर्धारित करने के लिए लड़की के मैट्रिक्युलेशन सर्टिफिकेट का सत्यापन करेंगे। उन्होंने कहा, "उसका बयान मंगलवार को एक मजिस्ट्रेट द्वारा दर्ज किया जाएगा जो उसकी कस्टडी पर फैसला लेगा।' विहिप और कुछ अन्य संगठनों के सदस्यों ने 20 अक्टूबर को किला पुलिस स्टेशन पर हंगामा किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि यह 'लव जिहाद' का मामला है।  200 से अधिक लोगों के खिलाफ पुलिस स्टेशन के अंदर हंगामा काटने के लिए मामला दर्ज किया गया। लड़के के परजिनों ने कहा कि दोनों आपसी रिश्ते में थे। लड़के के एक अंकल ने कहा, "जब दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं तो यह लव जिहाद का मामला कैसे हो गया? दोनों परिवार उनके रिश्ते के खिलाफ थे और उन्हें अलग करने की कई बार कोशिश की।' विहिप नेता इस बात पर अड़े थे कि महिलाओं को ऐसे "लव जिहाद' के मामलों से "सुरक्षित' रहने की जरूरत है। विहिप के बरेली इकाई के जिला अध्यक्ष पवन कुमार अरोड़ा ने कहा कि लड़की उस लड़के के जाल में फंस गई, जिसने उसे उसके ही धर्म का होने का ढोंग किया। उन्होंने कहा कि विहिप "लव जिहाद' के मामलों के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी। एक संबंधित घटना में शनिवार को शाहजहांपुर में एक सिख लड़की के दूसरे समुदाय के एक युवक के साथ भागने के बाद  विहिप के सदस्यों ने सिख समुदाय के लोगों के साथ, एक अन्य पुलिस थाने का घेराव किया।   इससे पहले, विहिप ने पुलिस को लड़की को ढूंढ़ने के लिए 24 घंटे का "अल्टीमेटम' दिया था, जिसमें उसने दावा किया था कि वह नाबालिग थी। पुलिस ने कहा कि लड़की के नाबालिग होने के दावे के समर्थन में परिवार ने कोई दस्तावेज नहीं दिया है। शाहजहांपुर के एसएसपी एस. आनंद ने कहा कि दोनों का पता लगाने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है। एक दोस्त, जिसने जोड़े को भागने में मदद की, को अपहरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया, जबकि लड़के के परिवार के एक सदस्य को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया। सिख पंजाबी महासभा के जिला अध्यक्ष वी.पी. सिंह ने कहा कि अगर लड़की पांच दिनों के अंदर नहीं मिली तो वे राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू करेंगे। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि लड़का और लड़की पिछले चार वर्षों से एक-दूसरे को जानते थे।



 434
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Fri/Nov 20, 2020, 10:10 AM - IST

नेपाल में चीन की... / काठमांडू, नेपाल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी में संकट के साथ ही चीन के दखल का स्तर बढ़ा है। नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली तथा पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष व पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल के बीच टकराव के बीच पार्टी की केंद्रीय सचिवालय की बुधवार को महत्वपूर्ण बैठक हुई, जिसमें ओली और प्रचंड सहित पार्टी के बड़े नेता शामिल हुए। इससे पहले प्रधानमंत्री ओली ने केंद्रीय सचिवालय की बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया था। हालांकि नेपाल में चीन की राजदूत होउ यानची के साथ मंगलवार रात को मुलाकात के बाद ओली ने केंद्रीय सचिवालय की बैठक में भाग लेने पर सहमत हुए। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार यानची और ओली के बीच करीब ढाई घंटे बातचीत हुई। ओली से इस मुलाकात से पहले यानची ने राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी, प्रचंड, माधव कुमार नेपाल, स्पीकर अग्नि प्रसाद सपटकल और अन्य के साथ बातचीत की। इससे पहले 31 अक्टूबर को ओली और प्रचंड के साथ केंद्रीय सचिवालय की बैठक हुई थी। नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में केंद्रीय सचिवालय निर्णय लेने वाली समिति है, इसमें कुछ प्रमुख नेताओं सहित कुल 45 सदस्य हैं। ओली की नेतृत्व क्षमता को लेकर पार्टी में गंभीर विवाद है। एक अन्य पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड और वरिष्ठ नेता माधव कुमार नेपाल, झाला नाथ खनाल और बामदेब गौतम ने मांग की है कि ओली प्रधानमंत्री या पार्टी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दें। ओली इस्तीफा देने को तैयार नहीं हैं।



 637
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Thu/Jan 01, 1970, 05:30 AM - IST

अटल बिहारी वाजपेयी... / भारतीय राजनीति की बात जब भी होगी तो अटल बिहारी वाजपेयी का नाम इवर्णीम चरित्रों में लिखा जाएगा। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक राजनीतिक शकीरीयत के साथ-साथ तार्किक प्रवृत्तियां, भारत के सफल संचारक, पत्रकार और कवि के रूप में भी जाने जाते हैं। अटल शीरी वाजपेयी का जयंम 25 दिसंबर 1924 को हुआ। आज पूरा भारत अटल बिहारी वाजेयी का 96 वां जयंती मना रहा है। इस अवसर पर भारत के राष्पतिपति रामनाथ कोविंद, यशस्वीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने  पूनप अपर्ति कर नमन किया। राजनीति को नई दिशा देते थे अटल जी भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष अटल जी भारतीय राजनीति के प्रेरणा पुंज जीवनभर बने रहेंगे। उनका राजनीतिक सफर सादगी भरा रहा। भारत के ऐसे महान नेता जिन्दी ने अपना पूरा जीवन भारत की सेवा में समर्पित कर दिया। राजनीति में आने के बाद भारतीय राजनीति में एक नई दिशा देने का काम किया गया। सादगी के प्रतिमूर्ति अटल जी ने पहली बार रात्रिवाद और राशीभक्ति जैसे शब्दों से पूरे देश को परिचित कराया। भारतीय जनसंघ की स्थापितपना में भी अटल जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यही पार्टी आज भारतीय जनता पार्टी के रूप में होनी चाहिए। सफल पत्रकार के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी वाजपेयी जी ने राजनीति के साथ-साथ लेखन में भी अपनी भागीदारी करते रहते थे। एक पत्रकार के रूप में भी अटल जी को आज याद किया जाता है। उनके संपादन में राधधर्म, पांचजन्य और वीर अर्जुन जैसे प्रतिष्ठित समाचारपत्रों का प्रकाशन हुआ है। अनुकूल संचारक के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी कुशल वक्‍ता, वाकपटुता कला में माहिर और अपने भाषणों से जनता का दिल जीतने वाले अटल बिहारी वाजपेयी को पूरा विश्‍व सफल संचारक के रूप में जानता है। उनके भाषणों की शौली से जनता के साथ-साथ संसद में भी शमा बंध जाता था। जब उनके भाषण की शुरूआत होती थी तो पूरे संसद में सन्‍नाटा छा जा जाता है और उनकी बातों को सभी सदस्‍य बहुत ही ध्‍यान पूर्वक सुनते थे। भारत के राष्ट्रपति कोविन्द ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर नई दिल्ली में उनके समाधि-स्थल – ‘सदैव अटल’ पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि  ‘पूर्व प्रधानमंत्री आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जन्म-जयंती पर शत-शत नमन। अपने दूरदर्शी नेतृत्व में उन्होंने देश को विकास की अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंचाया। एक सशक्त और समृद्ध भारत के निर्माण के लिए उनके प्रयासों को सदैव स्मरण किया जाएगा।'  केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने पूनप अर्पित कर कहा कि "अटल जी के विचार और देश की प्रगति के लिए उनकी छापें हमें सदैव राष्ट्रसेवा के लिए शक्ति देते रहें" "अटल जी की कर्मनिष्ठा और राष्ट्रसेवा हम सदैव प्रेरणा का केंद्र रहेंगे"        



 582
 0

Read More

By  s verma
posted : Fri/Dec 25, 2020, 11:00 AM - IST

Jabalpur / ABVP Members Attend... / Members of Jabalpur district unit of Akhil Bhartiya Vidyarthi Parishad enthusiastically attended the ABVP’s 66th National Conference being organised at Reshimbag, Nagpur through virtual mode on Friday. Through online mode, live telecast of the inaugural ceremony of the two-day National Conference was displayed at Rani Durgavati University. The conference will continue on Saturday also. During inaugural ceremony, Sar Karyavah, Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) Suresh Bhaiyaji Joshi addressed the ABVP students. Seeking details about Parishad’s activities from Chaganbhai Patel, National President, ABVP who presided over the conference and Nidhi Tripathi, National Secretary ABVP who was the special guest, Sar Karyavah, Bhaiyaji Joshi discussed about present scenario and future challenges. The virtual programme was attended by the invited More than 115 workers and office-bearers attended the conference. ABVP national conference was both the biggest and smallest even in it’s history as mere 200 workers were physically attended it in Nagpur but at the same time lakhs of workers attended the same at around 4000 places across the country wherever the programme was telecast through virtual mode. The programme was organised at every district unit throughout the country through virtual mode.



 506
 1

Read More

By  Avinash...
posted : Tue/Jan 05, 2021, 03:31 AM - IST

Bilāspur / श्रीराम लला मंदिर... / राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं विविध संगठनों में कार्य करने वाले कार्यकर्ताओं की तीन दिवसीय अखिल भारतीय समन्वय बैठक आज 5 जनवरी, 2021 से कर्णावती महानगर में आयोजित हो रही है. बैठक की पृष्ठभूमि में आयोजित पत्रकार परिषद को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने बताया कि अखिल भारतीय समन्वय बैठक का आयोजन  5, 6, 7 जनवरी को किया जा रहा है. बैठक में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, सरकार्यवाह भय्याजी जोशी, संघ के अखिल भारतीय अधिकारी, संघ की प्रेरणा से विविध संगठनों में कार्य कर रहे पच्चीस से अधिक संगठनों के अखिल भारतीय अध्यक्ष, महामंत्री, संगठन मंत्री, तथा कुछ चयनित प्रमुख कार्यकर्ता, इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय सेविका समिति की प्रमुख संचालिका, सह संचालिका भी आमंत्रित हैं. वनवासी कल्याण आश्रम के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचंद्र जी खराडी, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अध्यक्ष छगनभाई पटेल भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, भारतीय मज़दूर संघ के हीरेनभाई पण्ड्या, विश्व हिन्दू परिषद के कार्याध्यक्ष आलोक कुमार, स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय संयोजक तमिलनाडु के आर सुंदरम, विद्याभारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम कृष्णा राव जी बेठक में सम्मिलित होंगे. समन्वय बैठक कोई निर्णय करने वाला मंच नहीं है. सभी संगठन स्वतंत्र, स्वायत्त और स्वावलंबी हैं. सभी संगठन अपने संविधान और अपनी व्यवस्था के अंतर्गत कार्य करते हैं. सामान्यतः ये सब प्रमुख कार्यकर्ता पूरे देश में प्रवास करते हैं और बहुत से अनुभवी विशेषज्ञ लोगों से भी मिलते हैं. अनेक प्रकार की जानकारियां भी उनको प्राप्त होती हैं और घूमने व वर्षों काम करने के कारण से आकलन भी बनते हैं, अपने अनुभवों और आंकलनों के आदान-प्रदान तथा सबकी जानकारियों का लाभ सभी को हो सके, ऐसा इस बैठक का उदेश्य है. बैठक में लगभग 150 कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे, गत वर्ष एक विशेष चुनौती से पूरे विश्व को गुजरना पड़ा. परंतु हम सब के लिए प्रसन्नता की बात है कि चुनौती बहुत भीषण थी. लेकिन इस भीषण चुनौती में भी भारत ने एक उल्लेखनीय एवं अनुकरणीय उदाहरण दुनिया में प्रस्तुत किया है. संघ तथा विभिन्न संगठनों ने इस काल खंड में समाज के साथ मिल कर यथा शक्ति योगदान दिया. इस साल भर के अंदर किस प्रकार कार्य किया, इसकी समीक्षा होगी, जानकारियां अनुभव एक दूसरे को बताएंगे. इस विषम परिस्थिति में भी संगठनों ने अपनी गतिविधि का संचालन किया, परिस्थिति की मर्यादा को ध्यान में रख कर नई तकनीक का उपयोग किया और सब को एक अनुभव आया कि इस सारे काल खंड में सब संगठनों का दायरा भी बढ़ा है तथा काम का विस्तार भी बढ़ा है. अनुवर्तन में अनेक योजनाएं भी सबने बनाई हैं, उसकी जानकारी साझा करेंगे. पिछले वर्ष जब अपनी समन्वय बैठक हुई थी तो उसमें पर्यावरण संरक्षण, अपनी परिवार व्यवस्था सुदृढ़ हो, उस दृष्टि से समाज के संस्कार की कुछ योजना बने ऐसा विचार हुआ था. इसी कालखंड में सबको एक अनुभव आया कि भारतीय जीवन शैली के प्रति भी लोगों जागरूकता बढ़ी है. परिवार भाव और उसका महत्त्व, और स्वदेशी तथा आत्मनिर्भरता के प्रति समाज में जागरूकता बढ़ी है. तो अपने-अपने संगठनों में इन विषयों पर क्या योजना बनी है, इस पर बैठक में चर्चा होगी. श्रीराम जन्मभूमि पर न्यायालय का सर्वसम्मत निर्णय आया था. हिन्दू समाज की इच्छा के अनुरूप भव्य राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ था. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास को यह ध्यान में आया कि इतने बड़े कार्य में समाज का योगदान आवश्यक है. इस दृष्टि से न्यास ने समाज के प्रत्येक व्यक्ति के धन योगदान से यह कार्य संपन्न करने का निर्णय लिया है. और इस दृष्टि से घर-घर संपर्क का आह्वान किया है. इसकी भी चर्चा बैठक में होगी. इसके अतिरिक्त देश का वर्तमान परिदृश्य और समसामायिक महत्वपूर्ण विषयों पर भी चर्चा बैठक में हो सकती है.



 405
 0

Read More

Opposition

More...
By  Tej Yadav
posted : Fri/Nov 20, 2020, 09:39 AM - IST

New Delhi / बेरोजगारी और महंगाई... / नई दिल्ली, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को एक ट्वीट कर बढ़ती बेरोजगारी और महंगाई को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला। राहुल ने सोशल मीडिया पर कहा, ‘बैंक मुसीबत में हैं और जीडीपी भी। महंगाई इतनी ज्यादा कभी नहीं थी, न ही बेरोजगारी। जनता का मनोबल टूट रहा है और सामाजिक न्याय प्रतिदिन कुचला जा रहा है।' कांग्रेस नेता ने सवाल किया कि ‘यह विकास है या विनाश?' बता दें कि कोरोना महामारी के कारण देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। रिजर्व बैंक के अनुमानों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में आर्थिक विकास दर नकारात्मक रही है। जीडीपी दर दूसरी तिमाही में -8.6% सिकुड़ गई है। इसे लेकर भी राहुल ने केंद्र सरकार पर हमला किया था। उन्होंने कहा था, भारत इतिहास में पहली बार आर्थिक मंदी की चपेट में आ गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की ताकत को कमजोरी में बदल दिया है।



 377
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Thu/Apr 22, 2021, 04:20 AM - IST

New Delhi / भारतीय ऑक्सीजन... / 2019-20 : 4502, मिट्रिक टन, 2020-21 : 9500 मिट्रिक टन- भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा प्रियंका गांधी ने बुधवार को ट्वीट कर ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का जिम्मेदार कौन? ऐसा सवाल उठाया. प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा हमारे यहां ऑक्सीजन की कमी नहीं थी| हम ऑक्सीजन के सबसे बड़े उत्पादक है| सरकार ने कोरोना का खतरा होते हुए भी दोगुना ऑक्सीजन बाहर भेज दी| महाराष्ट्र सरकार मरीजों को सही उपचार ना दे पाने के कारण रोजाना 600 लोगों की मृत्यु हो रही है, आज ऑक्सीजन के कारण नासिक में 21 लोगों की मौत हुई है। ⦁ 2675 मीट्रिक टन ⦁ 7157 मीट्रिक टन   इसके पीछे का कारण बता दे ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत में पिछले वर्ष में बहुत अधिक चिकित्सा ऑक्सीजन का उत्पादन होता है और पिछले वर्ष अधिकतम मांग 2675 मीट्रिक टन थी जबकि भारत की क्षमता 7157 मीट्रिक टन है।   भारत ने केवल अधिशेष निर्यात किया जो कोई राज्य नहीं कर रहा था| पिछले सप्ताह तक हर राज्य कह रहा था कि उनके पास पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति है।



 41
 0

Read More

Election

More...
By  Newssyn Team
posted : Tue/Oct 27, 2020, 03:25 AM - IST

Patna / बिहार चुनाव: बिहार... / बिहार चुनाव को लेकर बिहार में चुनावी नीति बहुत ही ज़ोर शोर से चल रही है। वहीं बिहार में प्रथम चरण के मतदान का चुनाव प्रचार थम गया है। 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों पर जो चुनाव होने हैं उसमें 1066 प्रत्याशियों के लिए आने वाला समय अनुकूल नहीं होने की संभावना है अर्थात चुनौती भरा हो सकता है। इन प्रत्याशियों में 114 महिला हैं, जबकि 952 पुरुष हैं। चुनाव के लिए प्रत्याशी डोर टू डोर कैंपेनिंग के लिए निकल पड़े हैं। निर्वाचन आयोग की टीम ने पूरी तरह से इन गतिविधियों को नियंत्रण में रखा है। रुपयों और शराब जैसी असंवैधानिक गतिविधियों और शिकायत पर टीम की पूरी नज़र है। चुनाव आयोग ने बहुत से एजेंसियों को इस कार्य में लगा रखा है। रोहतास, अरवल, औरंगाबाद, गया, नवादा, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, पटना, भोजपुर, बक्सर, कैमूर (भभुआ), जहानाबाद, भागलपुर, जमुई जनपद में चुनाव होना है।



 429
 0

Read More

By  Public Reporter
posted : Tue/Nov 10, 2020, 01:11 AM - IST

Patna / बिहार विधानसभा... / पटना, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) बृंदा करात ने बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर कहा कि वैकल्पिक राजनीति वाली सरकार ही भविष्य की सरकार होगी। इस वार के चुनाव के जरिए एक वैकल्पिक नीतियों के लिए संघर्ष का रास्ता प्रशस्त होने जा रहा है। जमाल रोड स्थित पार्टी के राज्य कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि बिहार में राजग गठबंधन की विदाई तय है। उन्होंने एनडीए को ‘राष्ट्रीय विनाश गठबंधन’ की संज्ञा दी और कहा कि पूरी दुनिया ने पिछले  महीने में केंद्र एवं राज्य सरकार की चौतरफा विफलता एवं दमन को देखा है।  बिहार पर इसका खास असर पड़ा है।  बिहार के लाखों मजदूर भूख प्यास सहते अपनी जिंदगी गंवाते हजारों किलोमीटर की दूरी तय करते हुए वापस लौट रहे थे।  बिहार सरकार पहले तो उन मजदूरों को रोकने की कोशिश में लगी रही और बाद में उन्हें बिहार में ही रोजगार देने की घोषणा की गई।  उन्हें जब काम नहीं मिला तो फिर से वे दूसरे राज्यो में लौट गए। उन्होंने बताया कि बिहार का चुनाव रोजगार, रोजी, शिक्षा,,स्वास्थ्य,जैसे मुद्दों पर लड़ा जा रहा है और महागठबंधन के घोषणा पत्र में वो तमाम बातें है, जिसके लिए सीपीएम और वामपंथी दल लड़ते रहे हैं।  इस बार तमाम वामपंथी दलों एवं महागठबंधन के बड़े दल एक साथ मिलकर चुनाव में एक दूसरे की मदद कर रहे हैं।  महागठबंधन व वामपंथी दलों को भारी बहुमत मिलेगा और बिहार पूरे देश को बदलाव का संदेश देने वाला होगा।



 370
 0